MagMug
  • अच्छा लगता है..

    अच्छा लगता है.. ये शाम न जाए, कभी रात ना हो          उदासी-अंद्धेरे की बरसात ना हो हाँ ले चल मुझे कहीं साथ अपने, जहाँ बंदिशों की कोई बात ना हो वो रोना, वो गाना, सताना, मानना, करें जब जो चाहें,जो दिल ने ठाना, बहें धार में हम अपने ही दिल के,

    Read more

Pin It on Pinterest