A Friend or More

A Friend or More I was still conscious of the fact that he won’t be there for long. I didn’t

Read more

भारत भूमी प्यारी

गगन चूमता है. नीचे चरणों तले पड़ा, नित सिन्धु झूमता है. झरने अनेक झरते, जिसकी पहाडियों में, चिड़िया चहकती रहती,

Read more

अच्छा लगता है..

अच्छा लगता है.. ये शाम न जाए, कभी रात ना हो          उदासी-अंद्धेरे की बरसात ना हो

Read more

Pin It on Pinterest

X